गोपालगंज के बैकुंठपुर बंगरा में गंडक नदी का तटबंध टूटा, तीन लाख लोग भीषण बाढ़ की चपेट में

खबर आपतक ब्यूरो, पटना: अभी सूबे का पूर्वी एवं पश्चिमी चंपारण, सीतामढ़ी, शिवहर, सहरसा, पूर्णिया, किशनगंज, अररिया, कटिहार आदि जिले बाढ़ की चपेट में थे कि गुरूवार को गोपालगंज के बैकुंठपुर प्रखंड के बंगरा में सारण मुख्य तटबंध गुरुवार की शाम करीब 50 फुट में टूट गया। इससे दर्जनों गांवों में अफरातफरी मच गई। तेज पानी के बहाव के कारण लोग अपना घर द्वार छोड़ जान बचाकर भागे लेकिन कई के इसमें फंसने की सूचना है। पूर्णिया, कटिहार और मधेपुरा के कई नए इलाकों में पानी आने से लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा है। समस्तीपुर जिले में बाढ़ का पानी कई जगह प्रवेश कर गया है। मोतिहारी शहर को भी बाढ़ ने अपनी चपेट में ले लिया है। उधर मधुबनी में कोसी, कमला, धौस नदी के साथ अब गेहुमां नदी भी उफना गई है। इससे जिले में बाढ़ की स्थिति भयावह हो गई है। प्रदेश में पिछले 24 घंटे में बाढ़ से 44 लोगों के मरने की सूचना है। बाढ़ में मरनेवालों का आंकड़ा सौ को पार कर गया है।

गोपालगंज से मिली सूचना के अनुसार बैकुंठपुर में तटबंध के टूटने से मड़वा, हमीदपुर, कर्मशीला, बखरी सहित कई गांव कुछ ही देर में जलमग्न हो गए। इसमें लगभग दो हजार लोग चपेट में आ गए हैं, जो फंसे हुए हैं। तेज बहाव को देखते हुए एनडीआरएफ की टीम ने शाम पांच बजे के बाद पीड़ितों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाने से हाथ खड़ा कर दिया। गोपालगंज के सदौवा में गंडक नदी का मुख्य तटबंध टूटने के बाद बाढ़ का पानी बरौली व सिधवलिया प्रखंडों के करीब 20 गांवों में प्रवेश कर गया है। बरौली में एनएच 28 पर पानी चढ़ जाने से आवागमन ठप हो गया है। जिले के 174 गांव बाढ़ की चपेट में आ चुके हैं।  सदौवा में गंडक नदी का मुख्य तटबंध टूटने के बाद बाढ़ का पानी बरौली व सिधवलिया प्रखंडों के करीब बीस गांवों में प्रवेश कर गया है। अब तक जिले के छह प्रखंडों के एक सौ चौहत्तर गांव बाढ़ की चपेट में आ चुके हैं। बाढ़ से जिले के कुचायाकोट, बैकुंठपुर, गोपालगंज, सिधवलिया, मांझा व बरौली प्रखंड प्रभावित हुए हैं।गंडक नदी का सदौवा में मुख्य तटबंध सहित परसौनी में रिंग बांध व बैकुंठपुर के शीतलपुर,फैजुल्लाहपुर व पकहां में जमींदारी बांध के टूटने से करीब पंद्रह हजार घरों में बाढ़ का पानी घुस गया है। बाढ़ का पानी बरौली में एनएच 28 पर चढ़ जाने से सड़क पर आवागमन ठप हो गया है।

मधेपुरा में भी बाढ़ की स्थिति भयावह बनी हुई है। आलमनगर और चौसा के अलावा छह अन्य प्रखंड चपेट में आ गए। जिले में भलुआही के पास एनएच 106 की सड़क करीब 25 फीट कट जाने से यातायात ठप हो गया है। कटिहार के भसना, मनसाही और कोढ़ा प्रखंड के कई गांवों में बाढ़ का पानी फैलने लगा है। पूर्णिया के बायसी में कोहराम मचाने के बाद बाढ़ अब बनमनखी धमदाहा अनुमंडल में धमक दे चुका है। बनमनखी की 10 पंचायतें बाढ़ की चपेट में है। एनएच 107 पर गुरुवार से वाहनों का परिचालन बंद है। किशनगंज के फरिंगगोला में एनएच 31 और सुपौल के मरौना और नरपतगंज में राहत नहीं मिलने के कारण लोगों ने सड़क जाम कर प्रदर्शन किया। पूर्णिया के जियनगंज यह देखने को मिला।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *