फिलहाल भारत-पाकिस्तान के बीच क्रिकेट संबंध बहाली की कोई संभावना नहीं: अमित शाह

खबर आपतक ब्यूरो, नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर में आतंकी वारदातों को लेकर भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने भारत और पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय क्रिकेट संबंध निकट फिलहाल बहाल होने की संभावना से इनकार किया है। उन्होंने शनिवार को कहा कि दोनों देश अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंटों में एक दूसरे के खिलाफ खेलना जारी रखेंगे।

इंग्लैंड में चल रही चैंपियंस ट्राफी में दोनों चिर प्रतिद्वंद्वी देशों के बीच चैम्पियंस ट्रॉफी का फाइनल मैच रविवार को होने के पूर्व शाह ने यहां कहा कि दोनों देश किसी भी अंतरराष्ट्रीय टूनार्मेंटों में खेलना जारी रखेंगे, लेकिन वे ना तो पाकिस्तान को भारत खेलेने की अनुमति देंगे और न ही भारत पाकिस्तान जाकर खेलेगा। गुजरात क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष शाह राज्य के तीन दिवसीय दौरे यहांआए हैं। वे मुंबई में पार्टी संगठन की मजबूती को लेकर पार्टी कार्यकर्ताओं से मिलने का कार्यक्रम भी रखे हैं। इसके अलावा शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे से वे मिलेंगे। उन्होंने कहा कि भाजपा राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के नाम को अंतिम रूप देने से पहले अपने सभी सहयोगी दलों का विचार लेगी

शाह ने पत्रकारों को बताया कि सहयोगी पार्टियों से परामर्श के बाद ही राष्ट्रपति पद के प्रत्याशी के नाम की घोषणा की जाएगी। पत्रकारोंं ने उनसे शिवसेना प्रमुख के हालिया बयान को लेकर सवाल किया था। यहां बता दें कि शिवसेना के  निशाने पर मोदी सरकार रही है और उसने राष्ट्रपति पद के लिए हरित क्रांति के जनक एमएस स्वामीनाथन का नाम प्रस्तावित किया है। मध्यावधि चुनाव के लिए तैयार रहने संबंधी महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस की टिप्पणी के बारे में पूछे जाने पर शाह ने कहा सीएम ने कहा है कि मध्यावधि चुनाव हम पर थोपा जाता है तो हम चुनाव लड़ने के लिए तैयार हैं।

शाह ने आजादी के बाद से नरेन्द्र मोदी को सबसे लोकप्रिय नेता बताया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री भारत को 2022 तक एक विश्व शक्ति में तब्दील करने के लिए हर कोशिश कर रहे हैं। यह वर्ष राष्ट्र की आजादी का 75 वीं वर्षगांठ होगी। उन्होंने कहा कि भारत दुनिया की सबसे तेज गति से वृद्धि करने वाली बड़ी अर्थव्यवस्था बन चुकी है। पीएम मोदी ने प्रधानमंत्री पद की गरिमा को ऊंचाई प्रदान की  है। पिछली सरकार में हर मंत्री खुद को पीएम समझता था और मनमोहन सिंह को कोई तवज्जो नहीं दी।
उन्होंने वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) लागू करने के लिए पीएम मोदी की सराहना की और कहा कि किसी और के पास ऐसा करने का साहस या क्षमता नहीं थी। शाह ने कहा कि जलवायु परिवर्तन के मुद्दे पर भारत एक वैश्विक नेता के तौर पर उभरा है। मोदी सरकार ने तुष्टिकरण की राजनीति और वंशवाद के शासन का खात्मा किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *