मोतिहारी में थमने लगा बाढ़ का कहर, अभी भी सिहरे हैं लोग

मोतिहारी: जुलाई में आई बाढ़ का पानी उतरने लगा है, लेकिन अभी भी लोग सिहरे हुए हैं। खासकर पूर्वी चंपारण जिले के बंजरिया, मोतिहारी सदर, पताही, ढाका आदि प्रखंडों के करीब सौ पंचायतों के लोग बाढ़ को याद कर अभी भी सिहर उठते हैं। बंजरिया प्रखंड के निचले इलाके में पानी अभी भी फैला हुआ है। लोगों का कहना है कि अभी अगस्त बाकी है, क्योंकि दो साल पूर्व अगस्त माह में ही बाढ़ आई थी, जिसने सबकुछ तहस-नहस कर दिया था। हालांकि जिला कृषि विभाग ज्यादा फसल क्षति की बाात नहीं कहता। उसका कहना है कि धान के बिचड़े ज्यादा नष्ट हुए हैं। हालांकि वे इस बात को स्वीकारते हैं कि सब्जी की फसल को बारिश एवं बाढ़ से नुकसान हुआ है। वहीं खेतों में बागवानी के तहत लगाए गए पौधे सूख गए हैं। जिला प्रशासन की माने को अबतक करीब 90 हजार लोगों के खाते में बाढ़ सहायता की राशि भेजी जा चुकी है। धान के बिचड़े के नुकसान की भरपाई के लिए कम समय में उगनेवाले धान के बीज लोगों को उपलब्ध कराए जाएंगे। दूसरी ओर किसानों का आरोप है कि अभी तक उन्हें धान का बीज उपलब्ध नहीं कराया जा रहा है। जिले के बंजरिया प्रखंड में अभी भी बाढ़ का पानी फैला हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *